धन्यवाद,स्वागत है ।

कुल पेज दृश्य

इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

शनिवार, 27 जून 2015

                                 उपत्यका का अंकुर

                                                                                                                डॉ० ललित शुक्ल, दिल्ली

          वहॉ चलते हैं जहॉ विन्धायचल चट्टानों के वक्ष पर अमृत की धारा वाले  झरनों की स्रोतवाहिनी माला पहने है । इन पहाडी धाराओं की चाल सर्पिल है । तेज भागतीं है जैसे गन्तव्य जाने की बहुत जल्दी हो ।  व्यस्तता के क्षणों में भी वह गाती चलती है । आदमी भी प्रकृति के साथ गाता है । गाता क्या है , दिल खोलकर रख देता है । सुख-दुख के पुलिनों से आलिंगीत जीवन धारा भी कुछ ऐसे ही चलती है पर गॉव् की धरती पगडंडियों पर ि‍थरकती है । गॉव की बोली में दिल बोलने लगता है । और हरियाली की जिम्मेदारी नीम , पीपल , आम , जामुन और बरगद आदि पर है । अतीत के खण्डहरों से कवि संगीत टेरता है । वर्तमान का कवि - रचनाकार मूक पहाड को सचेत करता है ।फागुन सौरभ का भण्डार लुटा रहा है पर जानने वाले इस बात को जानतें हैं ,इस रहस्य को पहचानतें हैं । 
            यह वह दुनिया है , जहॉ पलाश के लाल लाल बादल सक्रिय रहतें  है । कवि की दृष्िट की सक्रियता की कर्मशाला से एक झॉकी ऑकती है , एक छवि उरेहती है । लाल लाल पहाड़ी पर मशालों की दीपमाला दीपित है । '' पी कहॉ '' की अनुगूॅज से वातावरण रोमॉचित हो उठता है ।टप -टप गिरते हुये महुआ के फूलों की रसीली ओर नशीली गंध दिग दिन्त नाचनें महकने लगता है । कवि की धरती को रसमय बनानेवाली पर्वत-पुत्रियॉ करुणावती , बेलन '(मुरला) , सिरसी और तमसा अपनी अपनी धाराओं में कहानी कहती हुई न जाने कब से बह रहीं हैं । यही है वो अंचल जो लोक मानस में आहलाद की उमंग भरता है । प्रकृति की इसी रम्यस्थली में डॉ0 जयशंकर त्रिपाठी जी का बचपन बीता था । यहॉ यह कहना कदाचित अप्रासंगिक हो कि जन्म की तिथ्िा अगहन कृष्ण 12 संवत्  1985 थी । सकूनत में बेदौली , पोस्ट-बेदौली (भारतगंज) इलाहाबाद का नाम आता है ।
              परिवार में संस्कृत का पठन पाठन कई  पीढियों से चला आ रहा है । जीवन के अनेक कष्टों को झेलकर , विपदाओं के तूफानों से लड़तें हुये यह संस्कृत जीते जी कायम रहा । जयशंकर जी का साहित्य-सृजन वही से रस पाता रहा है । प्रेरणा का उर्वरक वहीं से हरितिमा देता रहा है । पिता वैयाकरण पं0 छविनाथ जी त्रिपाठी की पुरोहिती उन्हें वंश परम्परा से ही मिली थी । पौरीहित्य परिवार जिस संस्कृति और परम्परा का विधान करता है उसमें कलाकार और मौलिक रचनाकार की अस्िमता के लिए बहुत कम गुंजाइस रहती है । जयशंकर जी इस बात के अपवाद हैं । अपनी अनेक सीमाओं के बावजूद भी वह तेजस्िवता को आदर और बहुमान देतें हैं । लोभ की जिस पोली जमीन पर पौरोहित्य की कच्ची इमारत  खड़ी होती है , वह उससे बहुत आगे निकल गये हैं । पितामह पं0 रमापति त्रिपाठी और प्रपितामह पं0 भैरव प्रसाद त्रिपाठी ज्येतिष और तंत्र की गहरी जानकारी के लिए अपने क्षेत्र में विश्रुत थे । पंचायती निरंजनी अखाड़ा द्वारा संचालित  पाठशाला में जयशंकर जी के पिता अध्यापन करते थे ।उन्होनें व्याकरण से मध्यमा परीक्षा उत्तीर्ण की थी । कर्मकाण्ड ,व्याकरण ,ज्योतिष औश्र तंत्र की आनुवांश्िाकता की उपज के रुप् में जयशंकर जी का व्यक्ितव हमारे सामने आता है । उनकी मॉं श्रीमती जगवन्ती देवी कुलीन परिवार की थी । उन्हें आन-बान और मर्यादा अपने पिता-पक्ष से ही मिली  थी । जयशंकर जी बतलातें हैं कि उनके पिता अत्यन्त सात्िवक ,सत्यनिष्ठ ,ऋष्िा जीवन के आदेशों से अनुप्रेरित थे । उनमें रुढियों की जकड़बन्दी न थी ।---------क्रमश:--

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें